Latest Headlines

विनायकी चतुर्थी की कथा, मुहूर्त और पूजा विधि जानिए


13 जुलाई, मंगलवार को आषाढ़ मास की विनायक चतुर्थी है। चतुर्थी की तिथि भगवान श्री गणेश की तिथि है। हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार श्री गणेश की कृपा प्राप्ति से जीवन के सभी असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। अमावस्या के बाद आने वाली शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहते हैं। पुराणों के अनुसार शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायकी तथा कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहते हैं।

प्रतिमाह शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को विनायकी चतुर्थी (Vinayaka Chaturthi) व्रत कहते हैं। यह चतुर्थी भगवान श्री गणेश को समर्पित है। इस दिन श्री गणेश की पूजा दोपहर-मध्याह्न में की जाती है।

इस दिन श्री गणेश का पूजन-अर्चन करना लाभदायी माना गया है। इस दिन गणेश की उपासना करने से घर में सुख-समृद्धि, धन-दौलत, आर्थिक संपन्नता के साथ-साथ ज्ञान एवं बुद्धि की प्राप्ति भी होती है। भगवान श्री गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है, विघ्नहर्ता यानी आपके सभी दु:खों को हरने वाले देवता। इसीलिए भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए विनायक/विनायकी चतुर्थी और संकष्टी गणेश चतुर्थी का व्रत किया जाता हैं।

विनायक चतुर्थी में चंद्र दर्शन करने की मनाही होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार विनायक चतुर्थी को चंद्र दर्शन करने से जीवन में कलंक लगता है। इसलिए इस दिन चंद्रमा के दर्शन करने से बचें।

आइए जानते हैं भगवान गणेश की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त-

इस बार विनायक चतुर्थी 13 जुलाई 2021 को मनाई जाएगी। पढ़ें शुभ मुहूर्त-

आषाढ़ माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि का प्रारंभ मंगलवार, 13 जुलाई 2021 को सुबह 08.24 मिनट पर हो रहा है और चतुर्थी तिथि बुधवार, 14 जुलाई को सुबह 08.02 मिनट तक रहेगी। अत: चतुर्थी पूजा के लिए दोपहर का शुभ मुहूर्त 13 जुलाई को ही प्राप्त हो रहा है, इसलिए विनायक चतुर्थी का व्रत 13 जुलाई को ही रखा जाएगा।

जो भक्त 13 जुलाई को विनायक चतुर्थी व्रत रखना चाहते हैं, उनको श्री गणेश की पूजा के लिए दोपहर में 02 घंटे 46 मिनट का शुभ मुहूर्त प्राप्त होगा। ये लोग दिन में 11.04 मिनट से दोपहर 01.50 मिनट के बीच पूजन करके चतुर्थी का विशेष लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

इस बार विनायक चतुर्थी के दिन 2 योग बन रहे हैं। इस दिन सुबह 05.32 मिनट से रवि योग शुरू हो रहा है जो कि अगले दिन यानी 14 जुलाई को सुबह 03.41 मिनट तक रहेगा। वहीं दोपहर 02.49 मिनट तक सिद्धि योग रहेगा। ऐसे में विनायक चतुर्थी व्रत रवि योग और सिद्धि योग में मनाया जाएगा।

आइए जानें कैसे करें विनायक चतुर्थी का पूजन-

* ब्रह्म मूहर्त में उठकर नित्य कर्म से निवृत्त होकर स्नान करें, लाल रंग के वस्त्र धारण करें।

* दोपहर पूजन के समय अपने-अपने सामर्थ्य के अनुसार सोने, चांदी, पीतल, तांबा, मिट्टी अथवा सोने या चांदी से निर्मित गणेश प्रतिमा स्थापित करें।

* संकल्प के बाद षोडशोपचार पूजन कर श्री गणेश की आरती करें।

* तत्पश्चात श्री गणेश की मूर्ति पर सिन्दूर चढ़ाएं।

* अब गणेश का प्रिय मंत्र- ‘ॐ गं गणपतयै नम:’ बोलते हुए 21 दूर्वा दल चढ़ाएं।

* श्री गणेश को बूंदी के 21 लड्डुओं का भोग लगाएं। इनमें से 5 लड्‍डुओं का ब्राह्मण को दान दें तथा 5 लड्‍डू श्री गणेश के चरणों में रखकर बाकी को प्रसाद स्वरूप बांट दें।

* पूजन के समय श्री गणेश स्तोत्र, अथर्वशीर्ष, संकटनाशक गणेश स्त्रोत का पाठ करें।

* ब्राह्मण को भोजन करवाकर दक्षिणा दें। अपनी शक्ति हो तो उपवास करें अथवा शाम के समय खुद भोजन ग्रहण करें।

* शाम के समय गणेश चतुर्थी कथा, श्रद्धानुसार गणेश स्तुति, श्री गणेश सहस्रनामावली, गणेश चालीसा, गणेश पुराण आदि का स्तवन करें। संकटनाशन गणेश स्तोत्र का पाठ करके श्री गणेश की आरती करें तथा ‘ॐ गणेशाय नम:’ मंत्र की माला जपें।

विनायक चतुर्थी कथा : Vinayak Chaturthi Katha

एक दिन भगवान भोलेनाथ स्नान करने के लिए कैलाश पर्वत से भोगवती गए। महादेव के प्रस्थान करने के बाद मां पार्वती ने स्नान प्रारंभ किया और घर में स्नान करते हुए अपने मैल से एक पुतला बनाकर और उस पुतले में जान डालकर उसको सजीव किया गया।

पुतले में जान आने के बाद देवी पार्वती ने पुतले का नाम ‘गणेश’ रखा। पार्वतीजी ने बालक गणेश को स्नान करते जाते वक्त मुख्य द्वार पर पहरा देने के लिए कहा। माता पार्वती ने कहा कि जब तक मैं स्नान करके न आ जाऊं, किसी को भी अंदर नहीं आने देना।

भोगवती में स्नान कर जब भोलेनाथ अंदर आने लगे तो बालस्वरूप गणेश ने उनको द्वार पर ही रोक दिया। भगवान शिव के लाख कोशिश के बाद भी गणेश ने उनको अंदर नहीं जाने दिया। गणेश द्वारा रोकने को उन्होंने अपना अपमान समझा और बालक गणेश का सिर धड़ से अलग कर वे घर के अंदर चले गए। शिवजी जब घर के अंदर गए तो वे बहुत क्रोधित अवस्था में थे। ऐसे में देवी पार्वती ने सोचा कि भोजन में देरी की वजह से वे नाराज हैं इसलिए उन्होंने 2 थालियों में भोजन परोसकर उनसे भोजन करने का निवेदन किया।

शिव ने लगाया था हाथी के बच्चे का सिर- 2 थालियां लगीं देखकर शिवजी ने उनसे पूछा कि दूसरी थाली किसके लिए है? तब पार्वतीजी ने जवाब दिया कि दूसरी थाली पुत्र गणेश के लिए है, जो द्वार पर पहरा दे रहा है। तब भगवान शिव ने देवी पार्वती से कहा कि उसका सिर मैंने क्रोधित होने की वजह से धड़ से अलग कर दिया है।

इतना सुनकर पार्वतीजी दु:खी हो गईं और विलाप करने लगीं। उन्होंने भोलेनाथ से पुत्र गणेश का सिर जोड़कर जीवित करने का आग्रह किया। तब महादेव ने एक हाथी के बच्चे का सिर धड़ से काटकर गणेश के धड़ से जोड़ दिया। अपने पुत्र को फिर से जीवित पाकर माता पार्वती अत्यंत प्रसन्न हुईं।

 



Related posts

Swachhta Samachar| 16/5/17 – indianewsportal.com

admin

Samachar | RBI: रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं और अन्य ख़बरें

admin

DD BIHAR NEWS (HINDI/URDU)- 10-10-2020, 07.00-07.30 PM

admin