Latest Headlines

स्ट्राबेरी संर‎क्षित करने ‎‎‎किसानों को ‎किराए पर ‎मिल रहा पोर्टेबल शीतभंडार कक्ष 


नई ‎दिल्ली । महाराष्ट्र के महाबलेश्वर में छोटे पैमाने पर स्ट्रॉबेरी उत्पादन करने वाले किसानों को अपनी फसल को संरक्षित करने के लिए पोर्टेबल सौर ऊर्जा चालित कोल्ड रूम (शीत भंडार कक्ष) किराये पर लेने के बाद लाभ मिल रहा है। कृषि-स्टार्ट अप कंपनी, इकोजेन ने यह जानकारी दी। महाबलेश्वर भारत की स्ट्रॉबेरी की राजधानी मानी जाती है। जिले में सिर्फ 10,000 के लगभग लोग रहते हैं, लेकिन देश के स्ट्रॉबेरी उत्पादन के लगभग 85 प्रतिशत हिस्से का उत्पादन करते हैं। यहां लगभग 20,000 टन फल हर साल पैदा होता है। इकोजेन के अनुसार, क्षेत्र के किसानों को इस साल की शुरुआत में भारी दिक्कत का सामना करना पड़ा जब लॉकडाउन प्रतिबंधों के कारण बाजार बंद रहे और उपभोक्ताओं के खर्च सीमित हो गये। स्थानीय पर्यटन और आइसक्रीम की मांग- दोनों ही स्ट्रॉबेरी किसानों के लिए अवसर पैदा करती हैं, भी बुरी तरह प्रभावित हुई। इकोजेन ने कहा ‎कि महाबलेश्वर में, किसानों को लगभग 27 लाख डॉलर (लगभग 20 करोड़ रुपये) का नुकसान हुआ क्योंकि वे घरेलू बाजार में अपनी उपज को संरक्षित करने और बेचने या इसे निर्यात करने में असमर्थ थे। 

बयान में कहा गया है कि लेकिन इकोज़ेन द्वारा बनाए गए तीन पोर्टेबल सौर ऊर्जा चालित शीत कक्ष के आगमन ने जिले के छोटे किसानों को मुंबई और पुणे के बड़े शहरों के साथ-साथ बेंगलुरु, कोच्चि और चेन्नई के आगे के बाजारों में मांग को पूरा करने की स्थिति पैदा कर दी है।इसके अलावा, पुणे स्थित इकोजेन अब इस क्षेत्र के 100 किसानों के साथ काम कर रही है। इसने भिल्लर गांव में एक ‘इको-कनेक्ट स्ट्रॉबेरी कलेक्शन सेंटर’ भी शुरू किया है, जो स्ट्रॉबेरी किसानों को लाभ पहुंचाने वाले कोल्ड चेन का विस्तार करता है।



Related posts

17.07.2020, Hindi Samachar, 07PM

admin

आयुर्वेदिक उत्पादों के लिए डब्ल्यूएचओ-जीएमपी/सीओपीपी प्रमाणन

admin

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री का बड़ा फ़ैसला, 500 शराब की दुकानों को बंद का आदेश !

admin